UDGAM Portal | आरबीआई के नए पोर्टल से अपनी लावारिस जमा राशि का पता लगाएं

UDGAM Portal: यदि आपने कभी सोचा है कि क्या आपके कुछ पुराने या निष्क्रिय बैंक खातों में कोई लावारिस धन पड़ा है, तो आप ऐसे अकेले व्यक्ति नहीं हैं। भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के अनुसार, मार्च 2020 तक बैंकिंग प्रणाली में लगभग 24,000 करोड़ रुपये की लावारिस जमा राशि थी। ये वे फंड हैं जो 10 साल या उससे अधिक समय से जमाकर्ताओं द्वारा संचालित या दावा नहीं किए गए हैं। जनता को उनकी लावारिस जमा राशि तक पहुंच और उसे पुनः प्राप्त करने में मदद करने के लिए, RBI ने 2023 में UDGAM पोर्टल (दावा रहित जमा – सूचना तक पहुंच का प्रवेश द्वार) नामक एक केंद्रीकृत वेब पोर्टल लॉन्च किया है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम बताएंगे कि UDGAM पोर्टल क्या है, यह कैसे काम करता है, और आप इसका उपयोग कई बैंकों में अपनी लावारिस जमा राशि को खोजने और दावा करने के लिए कैसे कर सकते हैं।

UDGAM Portal Kya Hai?

UDGAM पोर्टल एक राष्ट्रीय परियोजना है जिसे बैंकों में लावारिस जमा के बारे में जानकारी और विशेषज्ञता देने के लिए भारत विकास गेटवे (InDG) के हिस्से के रूप में डिज़ाइन किया गया है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 17 अगस्त, 2023 को UDGAM पोर्टल की शुरुआत की, जिससे एक ही स्थान पर कई बैंकों से लावारिस जमा की खोज करना आसान हो सके। यह पोर्टल जमाकर्ताओं को उनकी लावारिस जमाओं (Unclaimed Deposits) को खोजने और दावा करने का एक सुविधाजनक और आसान तरीका प्रदान करता है, और बैंकों को लावारिस जमाओं की संख्या कम करने और उनकी ग्राहक सेवा में सुधार करने का एक सुविधाजनक और आसान तरीका प्रदान करता है। UDGAM Full Form – (Unclaimed Deposits: Gateway to Access Information)

UDGAM पोर्टल का उद्देश्य क्या है?

  • UDGAM पोर्टल भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा विकसित एक केंद्रीकृत वेब पोर्टल है, जो नागरिकों को एक ही स्थान पर कई बैंकों में उनकी लावारिस जमा राशि की खोज करने में मदद करता है।
  • UDGAM पोर्टल का प्राथमिक उद्देश्य जमाकर्ताओं को उनकी लावारिस जमा राशि को खोजने और दावा करने का एक सुविधाजनक और आसान तरीका प्रदान करना है।
  • पोर्टल का लक्ष्य अधिक पारदर्शिता लाना, दस्तावेज़ीकरण प्रक्रिया को आसान बनाना और लावारिस जमा को अधिक व्यवस्थित तरीके से सुलभ बनाना है।
  • इसके अतिरिक्त, पोर्टल उपयोगकर्ताओं को अपने जमा खातों को अपने संबंधित बैंकों में संचालित करने की अनुमति देता है।
  • UDGAM Portal in Hindi जमाकर्ताओं और बैंकों दोनों को कई लाभ प्रदान करता है।

UDGAM पोर्टल के लिए पंजीकरण प्रक्रिया क्या है?

UDGAM Portal Registration करने के लिए, इन चरणों का पालन करें:

udgam16863809280044831345
UDGAM Portal in Hindi
  • UDGAM पोर्टल की वेबसाइट udgam.rbi.org.in पर जाएं।
  • होमपेज पर “Register” बटन पर क्लिक करें।
  • पंजीकरण के लिए अपना वैध मोबाइल नंबर और नाम दर्ज करें।
  • एक पासवर्ड बनाएं उसके बाद कैप्चा कोड एंटर करें।
  • निर्दिष्ट बॉक्स को चेक करें और “Next” पर क्लिक करके आगे बढ़ें।
  • अपने मोबाइल नंबर पर प्राप्त OTP दर्ज करके पंजीकरण को मान्य करें।
udgam28572898434581774831

पंजीकरण प्रक्रिया को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद, जमाधारक और उनके लाभार्थी वैध लॉगिन विवरण का उपयोग करके पोर्टल तक पहुंच सकते हैं।

ये भी पढ़े: E-Shram Card क्या है जाने इसके लाभ, रजिस्ट्रेशन और ई-श्रम कार्ड डाउनलोड कैसे करें

UDGAM पोर्टल का उपयोग कैसे करें

UDGAM पोर्टल तक पहुंचने के लिए, इन चरणों का पालन करें:

  • UDGAM पोर्टल की वेबसाइट udgam.rbi.org.in पर जाएं।
  • यदि आप नए उपयोगकर्ता हैं, तो अपने मोबाइल नंबर, नाम के साथ पोर्टल पर पंजीकरण करें और एक पासवर्ड सेट करें।
  • पंजीकरण (Registration) करने के बाद UDGAM पोर्टल पर लॉग इन करें।
    इनमें से कोई भी एक खोज मानदंड (नाम, खाता संख्या, या पैन नंबर) दर्ज करें और बैंक का चयन करें।
  • इसके बाद पोर्टल चयनित बैंक में पड़ी किसी भी लावारिस जमा राशि को प्रदर्शित करेगा।

दावा न की गई जमा राशि का दावा कैसे करें

UDGAM पोर्टल के माध्यम से दावा न की गई जमा राशि का दावा करने के लिए, उपयोगकर्ताओं को इन चरणों का पालन करना होगा:

udgam33002807123483532632
  • UDGAM पोर्टल वेबसाइट udgam.rbi.org.in पर जाएं।
  • सर्च बार में अपना नाम, खाता नंबर या पैन नंबर दर्ज करें।
  • पोर्टल आपकी खोज से जुड़ी सभी दावा न की गई जमाओं की एक सूची प्रदर्शित करेगा।आप उस जमा राशि का चयन कर सकते हैं जिसका आप दावा करना चाहते हैं और अगले चरण पर आगे बढ़ सकते हैं।
  • अपनी दावा न की गई जमा राशि की पहचान करें और अपने नाम पर क्लिक करें
udgam116724898965925739641
  • आपके नाम के सामने ‘UDRN’ (Unclaimed deposits Reference Number) नंबर प्रदर्शित होगा उसके सामने ‘export pdf’ पर क्लिक करें।
  • आपको उस बैंक की वेबसाइट पर पुनः निर्देशित किया जाएगा जहां लावारिस जमा राशि रखी गई है।
image editor output image1599616284 17029891453381319603500531089947

दावा प्रक्रिया को पूरा करने के लिए, आपको बैंक में कुछ दस्तावेज़ जमा करने होंगे, जैसे कि आपके पहचान प्रमाण और पते के प्रमाण की एक प्रति।

उदगम पोर्टल एक ही स्थान पर कई बैंकों से लावारिस जमा के लिए वन-स्टॉप-शॉप है, प्रत्येक बैंक की वेबसाइट पर व्यक्तिगत रूप से जाने की आवश्यकता नहीं है। यह पोर्टल जमाकर्ताओं को उनकी लावारिस जमाओं को खोजने और दावा करने का एक सुविधाजनक और आसान तरीका प्रदान करता है, और बैंकों को लावारिस जमाओं की संख्या कम करने और उनकी ग्राहक सेवा में सुधार करने का एक सुविधाजनक और आसान तरीका प्रदान करता है।

अंतिम शब्द

भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा UDGAM Portal की स्थापना वित्तीय समावेशन और लावारिस जमा के कुशल प्रबंधन की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। आरबीआई ने व्यक्तियों को कई संस्थानों में अपनी लावारिस संपत्तियों को खोजने और एकत्र करने के लिए एक केंद्रीकृत पोर्टल देकर पहले की समय लेने वाली और जटिल प्रक्रिया को छोटा कर दिया है। पोर्टल का क्रमिक कार्यान्वयन यह आश्वासन देता है कि जैसे-जैसे परियोजना अधिक संस्थानों को शामिल करने के लिए विस्तारित होगी, अधिक लोगों को लाभ होगा। अंत में, UDGAM पोर्टल बैंकिंग उद्योग में खुलेपन को बढ़ावा देने के साथ-साथ व्यक्तियों को अपनी वित्तीय संपत्तियों पर नियंत्रण रखने के लिए सशक्त बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह कार्यक्रम दावा न किए गए जमा के मुद्दे को हल करने और जनता को उनका हक वापस पाने में सहायता करने के लिए आरबीआई के समर्पण को प्रदर्शित करता है।

FAQs – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. लावारिस जमा क्या हैं?
A. दावा न की गई जमा राशि बचत या चालू खातों में शेष राशि है जो 10 वर्षों से संचालित नहीं है, या परिपक्वता की तारीख से 10 वर्षों के भीतर दावा नहीं की गई सावधि जमा है।

Q. UDGAM पोर्टल क्या है?
A. यूडीजीएएम पोर्टल भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा शुरू किया गया एक केंद्रीकृत वेब पोर्टल है, जो व्यक्तियों और गैर-व्यक्तियों को विभिन्न बैंकों से उनकी लावारिस जमा राशि का पता लगाने और दावा करने में मदद करता है। UDGAM का मतलब है लावारिस जमा-जानकारी तक पहुंचने का प्रवेश द्वार।

Q. UDGAM पोर्टल पर पंजीकरण और लॉग इन कैसे करें?
A. यूडीजीएएम पोर्टल पर पंजीकरण और लॉग इन करने के लिए, आपको वेबसाइट [udgam.rbi.org.in] पर जाना होगा और ‘रजिस्टर’ बटन पर क्लिक करना होगा। खाता बनाने के लिए आपको अपना नाम, ईमेल, मोबाइल नंबर और पासवर्ड प्रदान करना होगा। अपना ईमेल और मोबाइल नंबर सत्यापित करने के बाद, आप अपने क्रेडेंशियल्स का उपयोग करके पोर्टल पर लॉग इन कर सकते हैं।

Q. UDGAM पोर्टल पर लावारिस जमा की खोज कैसे करें?
A. यूडीजीएएम पोर्टल पर लावारिस जमा की खोज करने के लिए, आपको पोर्टल पर लॉग इन करना होगा और ‘खोज’ बटन पर क्लिक करना होगा। आपको जमाकर्ता का नाम, पैन नंबर, आधार नंबर और जमाकर्ता की जन्मतिथि दर्ज करनी होगी। आप उस बैंक और शाखा का नाम भी दर्ज कर सकते हैं जहां जमा किया गया था। पोर्टल आपके मानदंडों से मेल खाने वाली दावा न की गई जमाओं की सूची प्रदर्शित करेगा। आप उस जमा राशि का चयन कर सकते हैं जिसका आप दावा करना चाहते हैं और अगले चरण पर आगे बढ़ सकते हैं।

Q. UDGAM पोर्टल पर दावा न की गई जमा राशि का दावा कैसे करें?
A. यूडीजीएएम पोर्टल पर दावा न किए गए जमा का दावा करने के लिए, आपको आवश्यक दस्तावेज और जानकारी प्रदान करके जमा के अपने स्वामित्व को सत्यापित करना होगा। पोर्टल आपके लिए एक दावा संदर्भ संख्या और एक दावा प्रपत्र तैयार करेगा। आपको दावा प्रपत्र प्रिंट करना होगा और इसे मूल दस्तावेजों और दावा संदर्भ संख्या की एक प्रति के साथ उस बैंक शाखा में जमा करना होगा जहां जमा किया गया था। बैंक आपके दावे का सत्यापन करेगा और उसके अनुसार प्रक्रिया करेगा।

Q. UDGAM Portal पर कौन से बैंक उपलब्ध हैं?
A. वर्तमान में, UDGAM Portal पर 30 बैंक उपलब्ध हैं, जो जमाकर्ता शिक्षा और जागरूकता (DEA) फंड में ऐसी लावारिस जमाओं का लगभग 90% (मूल्य के संदर्भ में) कवर करते हैं। बैंकों की सूची पोर्टल की वेबसाइट पर पाई जा सकती है। आरबीआई भविष्य में पोर्टल पर और अधिक बैंकों को शामिल करने की योजना बना रहा है।

Q. UDGAM पोर्टल का उपयोग करने के क्या लाभ हैं?
A. UDGAM पोर्टल का उपयोग करने के लाभ हैं:

  • यह एक ही स्थान पर कई बैंकों में लावारिस जमा को खोजने और दावा करने का एक सुविधाजनक, सुरक्षित और पारदर्शी तरीका है।
  • यह लावारिस जमा में पड़े निष्क्रिय धन को कम करने और जमाकर्ताओं के वित्तीय समावेशन और जागरूकता को बढ़ाने में मदद करता है।
  • यह अनधिकृत व्यक्तियों या संस्थाओं द्वारा धोखाधड़ी और लावारिस जमा के दुरुपयोग को रोकने में मदद करता है।

ये भी पढ़े:

Leave a Reply